भूतिया कुआँ और किसान | Bhutiya Kuva | Stories for Kids | Hindi Moral Stories - Truehindi.Com » Hindi Shayari हिंदी शायरी,Birthday Wishes,Romantic Quotes,Motivational Quotes.

Mobile Menu

Top Ads

Latest

logoblog

भूतिया कुआँ और किसान | Bhutiya Kuva | Stories for Kids | Hindi Moral Stories

Saturday, May 25, 2019
एक समय की बात है विष्णुपुर नामक एक गांव में एक भूतिया कुआ था लोग कुएं के आस-पास जाने से भी डरते थे,वे सोचते कि कहीं हमें भूत खा ना ले!उस कुए के आस-पास कहीं सारे घने पेड़ थे,उस भूतिया कुए की डरावनी कहानियां गांव के लोग अक्सर सुनाया करते थे गांव का हर बच्चा,बूढ़ा और औरतें सब उस भूतिया कुए से डरते थे!

यह भी पढ़े: लालची सेठ और आम वाला | Greedy Seth | Hindi Kahaniya for Kids | Hindi Moral Stories


Bhutiya Kuva | Stories for Kids

उसी गांव में एक दयानंद नाम का एक किसान रहता था वह बहुत ही मेहनती था एक दिन वह अपने काम से खेत की ओर जा रहा था तभी रास्ते में उसे कुछ लोग मिले जो कि उस डरावने कुएं की बात कर रहे थे !
“सुना है हीराराम का लड़का कुछ दिन पहले उस कुएं के पास जाता दिखा और उसके बाद आज तक वह घर वापस नहीं लौटा है !कही कुए का भूत उसे खा तो नहीं गया !”
तभी उन दोनों की बातें सुनकर दयानंद ने  बोल ही दिया- “सुनो तुम दोनों! भूत-वूत कुछ नहीं होता है यह सब मनगढ़ंत कहानियां है!”

यह भी पढ़े: पिता के लालची बेटे | Lalchi Sons | Hindi Kahaniya for Kids

उन दोनों में से एक व्यक्ति बोला- “अच्छा तुम डरते नहीं हो! तुम्हें यह सब झूठ लग रहा है!”
 दयानंद बोला - “भूत कहां होते हैं मैंने तो नहीं देखे !”
यह  सुनकर दूसरा व्यक्ति बोला- “अच्छा तुम्हें लगता है कि भूत नहीं होते हैं तो हम एक शर्त लगाते हैं और तुम साबित करो कि भूत नहीं होते हैं”
दयानंद ने कहा- “ठीक है तुम शर्त बताओ!”
व्यक्ति बोला -”तुम्हें आधी रात को उस कुए के पास जाना है और हम तुम्हें दूर से उस कुएं के पास जाता देखेंगे”
दयानंद ने कहा- “ठीक है रात को मिलते हैं!”


Bhutiya Kuva and Kisaan | Hindi Kahaniya for Kids

तो जैसा तय हुआ था वे  तीनों रात को एक जगह मिले और कुए की तरफ निकल पड़े गांव के दोनों व्यक्ति एक पेड़ के पास रुक गए और दयानंद कुए के पास जाने लगा !अंधेरा कुछ ज्यादा था तो दयानंद कुछ दिख नहीं रहा था और तो और रात में कुछ जानवरों की डरावनी आवाजें भी आ रही थी ! चारो तरफ से पशु पक्षियों की आवाज आती सुनाई पड़ रही थी! दयानंद थोड़ा डर गया था परंतु वह रुका नहीं और चलता रहा और उसे वह भूतिया कुवा दिख गया !वह जल्दी से कुए के पास गया और कुछ देर वहीं रुका !
अचानक दयानंद को एक चमकती हुई चीज दिखी वह तो डर गया !दयानंद  ने ध्यान से देखा तो वह तो एक उल्लू था जिसकी आंखें चमक रही थी! उल्लू को देखकर दयानंद की जान में जान आई तब वे दोनों गांवों के लोग देख रहे थे और थोड़ी देर में दयानंद वापस उन दोनों के पास आ गया!

यह भी पढ़े: रामू किसान और दुकानदार | Kisaan Ki Kahani | Hindi Stories for Kids | Moral Stories


भूतिया कुआँ और किसान | Hindi Moral Stories

गांव का एक व्यक्ति बोला- “तुझे भूत ने कुछ नहीं किया”
दयानंद ने कहा- “अरे भूत होता तो कुछ करता है ना! वहां तो एक बड़ा सा उल्लू था जिसे देख कर सब डर जाते हैं!”

 तो बच्चों इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती है की भूत जैसा कुछ नहीं है यह डर सिर्फ हमारे मन में होता है!

यह भी पढ़े: लालची किसान | Lalchi Kisaan | Hindi Story | Stories for Kids | Hindi Moral Stories


भूतिया कुआँ और किसान | Bhutiya Kuva | Stories for Kids | Hindi Moral Stories




✿ Story - भूतिया कुआँ और किसान
✿ Animator - Tabby TV Animation Team

©  Tabby TV 2019

No comments:

Post a Comment