होशियार हिरण - Hindi Kahaniya for Kids | Stories for Kids | Hindi Moral Stories - Truehindi.Com » Hindi Shayari हिंदी शायरी,Birthday Wishes,Romantic Quotes,Motivational Quotes.

Mobile Menu

Top Ads

Latest

logoblog

होशियार हिरण - Hindi Kahaniya for Kids | Stories for Kids | Hindi Moral Stories

Friday, May 24, 2019

 एक समय की बात एक जंगल में एक हिरण रहता था! जंगली जानवरों से बचने के लिए जीनु ( हिरण )  एक गुफा में रहता,बहुत गुफा उसके लिए सुरक्षित थी! गुफा के बाहर बहुत सारी घास और नजदीकी एक पानी का तालाब था जीनु प्रतिदिन उस गुफा से बाहर निकलकर हरी-भरी घास खाता और पास के तालाब से पानी पीता , पानी पीने के बाद वह आराम करने के लिए अपनी गुफा में वापस चला जाता |
Smart Deer - Stories for Kids
एक दिन एक शेर शिकार की तलाश में इधर-उधर भटकता हुआ गुफा के नजदीक आ गया,जीनू बहुत डर गया पर उसने संयम नहीं खोया और उसने उस शेर से बचने की एक तरकीब निकाली और जीनू अपनी आवाज को बदलकर बोलता है- सुनो मित्र आज हम भरपेट खाना खाएंगे एक शेर इधर ही आ रहा है |में अपने नुकीले दांतो से उसका शिकार करूंगा और तुम उसे गुफा के अंदर लाने में मदद करना!
शेर जीनु की बातों को सुनकर डर गया और तुरंत वहां से भाग गया,शेर जीनू को एक भयंकर जानवर समझ बैठा!

तभी एक लोमड़ी शेर को भय से भागता देख उसके पास जाती है और  कहने लगती है महाराज आप भाग क्यों रहे हैं क्या बात है? क्या हुआ है? क्या आप मुझे बता सकते हैं?
शेर हांफता हुआ बोलता है की गुफा के अंदर एक भयंकर जानवर रहता है वह अपने नुकीले दांतों से शेरों का शिकार करता है वह एक बड़ा एवं खतरनाक जानवर है|

यह सुनकर लोमड़ी हस्ती है और बोलने लगती है वह जानवर कोई बड़ा भयंकर नहीं है आपको अपना शिकार नहीं बना सकता है ऐसे में शेर कहता है कि नहीं नहीं!  मैं उसके पास नहीं जाऊंगा वहां खतरा है
Smart Deer - Stories for Kids
फिर लोमड़ी कहती हे आप चले तो सही एक बार उसे देखकर तो आते हैं शेर बोला नहीं मैं नहीं आ सकता कहीं वह मेरा शिकार कर लेगा और मुझे अपने दांतों से काट कर खा जाएगा और मैं मर जाऊंगा!

ऐसे में लोमड़ी बोली- आप मेरा विश्वास करें मुझे ऐसे ही चालाक लोमड़ी नहीं करते हैं आपको कुछ नहीं होगा महाराज!
शेर ने हामी भरी और दोनों उस गुफा की ओर बढ़ने लगे फिर भी शेर डरा हुआ था जीनू को लोमड़ी और शेर साथ में गुफा की ओर आते दिखे लेकिन जीनु बिल्कुल घबराया नहीं उसने एक और तरकीब निकाली और वह बोला लोमड़ी मैंने तुम्हें दो शेर लाने के लिए कहा था तुम सिर्फ एक लाइ,अब हम सब का पेट कैसे भरेगा!
तुम इतना भी नहीं जानती हमें कितनी भूख लगी है!
जीनू की बात सुनकर शेर  भयभीत होकर भागने लगा और गुफा से बहुत दूर चला गया जीनू की समझदारी से उसकी जान बच गई 

इससे हमें शिक्षा मिली की  मुश्किल में हमें  समझदारी से काम लेना चाहिए और घबराना नहीं चाहिए!
धन्यवाद्

Watch Now : होशियार हिरण - Hindi Kahaniya for Kids | Stories for Kids | Hindi Moral Stories



1 comment
Hide comments

1 comment: