लालची सेठ और आम वाला | Greedy Seth | Hindi Kahaniya for Kids | Hindi Moral Stories - Truehindi.Com » Hindi Shayari हिंदी शायरी,Birthday Wishes,Romantic Quotes,Motivational Quotes.

Mobile Menu

Top Ads

Latest

logoblog

लालची सेठ और आम वाला | Greedy Seth | Hindi Kahaniya for Kids | Hindi Moral Stories

Friday, May 24, 2019
कई साल पहले सीतापुर गांव में एक व्यापारी रहता था ! वह महाकंजूस था ,वह किसी भी चीज को कम से कम दाम में खरीदना और महंगे दामों में बेचना चाहता था !एक दिन वह रास्ते से चलकर जा रहा था उसे एक आम बेचने वाला दिखा| जीतू व्यापारी आम वाले के पास गया और पूछा- कितने में दोगे भाई एक दर्जन आम? आम मीठे और स्वादिष्ट तो हैं?
Greedy Seth Story For Kids | Hindi Moral Stories

आम वाला बोला- एक दर्जन आम 5 रूपए में  दूंगा! आप ले लीजिए  यह स्वादिष्ट और मीठे हैं!
व्यापारी बोला- क्या? 5 रूपए  में दर्जन! यह तो बहुत महंगे हैं भाई, पैसे क्या पेड़ पर उगते हैं 3 रुपये दूंगा!

आम वाले ने कहा- श्रीमान सबको एक ही  दाम पर आम बेच रहा हूं आपसे ज्यादा क्यों लूंगा ! मैंने आपके लिए ही दाम नहीं बढ़ाए हैं मुझे भी 2 रूपए  कमाने हैं! अगर आपको 3 रूपए के दर्जन आम खरीदने हैं तो यहां से दो मिल आगे जाइए वहां 3 रूपए दर्जन आम मिल जाएंगे!
जीतू व्यापारी बोला- दो मिल क्या, मैं चार मिल जाऊंगा तुझे क्या ?  तु तो मुझसे ही पैसे ऐंठने की कोशिश कर रहा है यह कहकर व्यापारी आगे बढ़ गया कुछ दूर जाने के बाद उसे एक और आम बेचने वाला दिखा! 

यह भी पढ़े : होशियार हिरण - Hindi Kahaniya for Kids | Stories for Kids | Hindi Moral Stories

फिर जीतू व्यापारी बोला- अरे भाई! कितने में दोगे एक दर्जन, दाम थोड़ी सोच समझकर बोलना बहुत दूर से आया हूं! ऐसा ना हो तुम मुझे दाम ज्यादा बता कर निराश कर दो
 आम वाला बोला- श्रीमान आपके लिए दाम ठीक ही लगाऊंगा!   आप  खरीदे बहुत मीठे और स्वादिष्ट आम हैआपके लिए 3 रूपए दर्जन दूंगा!
Greedy Seth | Hindi Kahaniya for Kids 
जीतू व्यापारी बोला-3 रूपए दर्जन. बाप रे! सामने बड़ा व्यापारी खड़ा है तो क्या कुछ भी मांगोगे ! इतनी लालच ठीक नहीं! एक रुपए दूंगा एक दर्जन आम का!  दे दो मुझे
आम वाले ने कहा- नहीं श्रीमान, यह दाम अपने बहुत कम बताया है! मैं आपको इतने कम दाम में आम नहीं दे सकता, मेरा नुकसान हो जाएगा, कोई नुकसान उठाने के लिए  व्यापार थोड़ी ना करता है!
 अगर आपको एक रुपए ने ही  आम चाहिए तो यहां से थोड़े आगे चाहिए वहां आम का बगीचा है वहां आप पूछ लीजिएगा!

जीतू व्यापारि बोला- हां मैं तो जाऊंगा ही कितनी भी दूर हो! यहां तो कितनी लूट मची है! अब आम बेचने के लिए घर बेचना पड़ेगा क्या ?यह  कहकर  व्यापारी आगे बढ़ गया वह चलकर जा रहा था !थोड़ी ही दूर उसे आम का बगीचा दिखा,और वहां पास  उसे आम बेचने वाला भी दिखा व्यापारी उससे बोला-हे भाई! कितने में दोगे एक दर्जन आम !और दाम थोड़ी सोच समझ कर बोलना ज्यादा मत बता देना!
आम वाले ने कहा-  बाबूजी  सबके लिए एक ही काम है एक रुपए में एक दर्जन आम!

जीतू व्यापारी बोला -अरे 1 रूपए क्या कुछ भी ना दूं तुम्हें अठन्नी दूंगा !अठन्नी में देना हो तो दो, नहीं देना तो ना !मैं क्या पागल दिखता हूं तुम्हें, सामने पेड़ से उतार रहे हो और यहां एक रुपए में बेच रहे हो इसका मैं  तुम्हें 1 रूपए थोड़ी दूंगा!
आम वाले ने कहा- तो आप ही पेड़ पर चढ़ जाए और जितने चाहे आम तोड़ लीजिए  मैंने कहा मना किया है मैंने आपसे थोड़ी कहा है कि मुझसे ही आम खरीदे !1 रूपए से कम में, मैं नहीं दे सकता| आपकी मर्जी लेना हो तो लीजिए बाकी पेड़ तो उतार लीजिए! जाइए अब..

जीतू व्यापारी ने कहा- जरूर  चढूंगा और आम भी उतार लूंगा पर तुम से   एक रुपए में एक दर्जन आम नहीं खरीदूंगा| तुमने तो लूट मचा रखी है तुम्हारी इस लूट को मैं  रोककर ही दम लूंगा|
 यह कह कर व्यापारी पेड़ पर चढ़ गया और वह आम तोड़ने का प्रयास करने लगा तभी उसने पेड़ की सूखी डाली पर अपना पैर रख दिया और टहनी के टूटते ही जीतू व्यापारी नीचे गिर गया और उसका पैर टूट गया!
Lalchi Seth Or Aam Wala | Hindi Story

 उसके बाद वह   वेद्यशाला में वेद्य के पास गया! वेद्य ने उसे बहुत डांटा- क्यों जीतू व्यापारी एक रुपए  के लिए इतना सोच रहे थे! अब देखो टूट गई तो10000 का खर्चा हुआ, कम से कम अब तो सुधर जाओ और इतनी कंजूसी करना बंद करो और सही तरीके से जीना सीखो!

 तो बच्चों इस कहानी से हमें शिक्षा मिली की चाहत अच्छी बात है  पर दूर आशा हमें सुख मिलता है समझ गए इसलिए जो चीज  हमें चाहिए लीजिए, पर इतना भी कंजूस  मत  दिखाइए कि वह हमें महंगा पड़ जाए और 1 दिन हमें हानी हो जाए!

Watch Now: लालची सेठ और आम वाला | Greedy Seth | Hindi Kahaniya for Kids | Hindi Moral Stories




No comments:

Post a Comment