लालची किसान | Lalchi Kisaan | Hindi Story | Stories for Kids | Hindi Moral Stories - Truehindi.Com » Hindi Shayari हिंदी शायरी,Birthday Wishes,Romantic Quotes,Motivational Quotes.

Mobile Menu

Top Ads

Latest

logoblog

लालची किसान | Lalchi Kisaan | Hindi Story | Stories for Kids | Hindi Moral Stories

Saturday, May 25, 2019
एक समय की बात है सीतारमण नामक गांव में एक बिरजू नाम का किसान रहता था वह बहुत परेशान रहता क्योंकि वह जो भी फसल उगाता,वह अच्छी नहीं होती!इसलिए वह ईश्वर से बहुत नाराज था सोचता की ईश्वर बार-बार उसकी फसल को बिगाड़ देते हैं! बिरजू किसान की फसल कभी तेज बारिश से,कभी ओले और तूफान से थोड़ी बहुत खराब हो जाती थी!
 Lalchi Kisaan | Hindi Story 

 1 दिन किसान सुबह-सुबह अपने खेत की ओर जा रहा था वह जब अपने खेत पहुंचा  तो उसने देखा कि उसकी फसल बर्बाद हो चुकी है क्योंकि रात में आई आंधी ने उसकी फसल को खराब कर दिया था! बिरजू किसान भगवान से बहुत नाराज हो गया और भगवान से कहने लगा- हे ईश्वर आप तो भगवान है लेकिन लगता है आपको खेती बाड़ी की थोड़ी भी समझ नहीं है! आप 1 साल यह मौका मुझे दीजिए जैसा मैं चाहूं  वैसा मौसम हो जाए!   फिर देखना में कैसे अन्न का भंडार भर दूंगा!
 भगवान ने बिरजू किसान की सुन ली और बोले- जैसा तुम चाहोगे कैसा मौसम होगा!

यह भी पढ़े: होशियार हिरण - Hindi Kahaniya for Kids | Stories for Kids | Hindi Moral Stories

 बिरजू तो बहुत खुश हो गया अब उसने गेहूं की फसल बोई और जब धुप की जरूरत होती तो  ईश्वर ने धूप  दी  जब बारिश की तो ईश्वर ने बारिश की!लेकिन किसान ने कभी तेज आंधी, ओले,और तूफान को आने ही नहीं दिया पर किसान तो बहुत खुश था वह जो चाहता वही हो रहा था!और  फसल तो बहुत अच्छी हो रही थी किसान सोचने लगा की अब ईश्वर को पता चलेगा की अच्छी फसल कैसे की जाती है अब फसल काटने का समय हुआ तो किसान गेहूं काटने लगा परंतु उसने देखा की गेहूं की एक भी बाली में दाना ही नहीं था! वह बहुत उदास हो गया और ईश्वर को पुकारने लगा - हे भगवान आप कहां है देखें मुझे आप की आवश्यकता है आप प्रकट हो!
 ईश्वर प्रकट हुए!
 किसान ने उनसे कहा- हे प्रभु, यह क्या हो गया गेहूं की एक भी बाली में दाना ही नहीं है!
ईश्वर ने जवाब दिया- यह तो होना ही था, इन पौधों को तुमने केवल अच्छे-अच्छे मौसम दिखाएं इन्हें चुनौतियों और संघर्षों से जूझने का मौका ही नहीं दिया इसलिए यह खोखले रह गए !
बिरजू किसान  को अपनी गलती का एहसास हुआ वह अपने किए की माफी मांगता है!

 तो बच्चों अगर कभी भी कोई भी चुनौती आये तो आप उनसे  घबराये नहीं,बल्कि हंसकर उसका सामना करें!
धन्यवाद !

यह भी पढ़े: लालची सेठ और आम वाला | Greedy Seth | Hindi Kahaniya for Kids | Hindi Moral Stories

Watch Now : लालची किसान | Lalchi Kisaan | Hindi Story | Stories for Kids | Hindi Moral Stories



No comments:

Post a Comment