लालची घी वाला रूपलाल | Hindi Kahaniya For Kids | Stories For Kids - Truehindi.Com » Hindi Shayari हिंदी शायरी,Birthday Wishes,Romantic Quotes,Motivational Quotes.

Mobile Menu

Top Ads

Latest

logoblog

लालची घी वाला रूपलाल | Hindi Kahaniya For Kids | Stories For Kids

Sunday, June 23, 2019

Lalchi Ghee Wala Hindi Kahani for kids - लालची घी वाला रूपलाल | Hindi Kahani,Hindi Moral Stories,Hindi Stories For Kids,Panchatantra Stories In Hindi,Hindi Fairy Tales,Hindi Ki Kahaniya,Kids Kahaniya,Stories For Kids,Bed Time Story,Moral Story,Lalchi Stories,Hindi Kahaniya For Kids.

लालची घी वाला रूपलाल | Hindi Kahaniya For Kids | Stories For Kids

एक समय की बात है बिसलपुर नामक गांव में एक रूपलाल नाम का घी वाला रहता था! गांव में रूपलाल का घी बहुत प्रसिद्ध था! लोग हमेशा रूपलाल से ही घी खरीदते क्योंकि उसका घी  उत्तम गुणवत्ता वाला था! रूपलाल प्रतिदिन घी की बेचने के लिए गांव में घूमता रहता! वह जितना भी घी बेचने के लिए लाता शाम तक सब बिक जाता तथा शाम होते-होते वह घर भी चला जाता !  घर जाकर अपने पूरे दिन की कमाई को गिनता तथा बाद में आराम करता!

एक दिन की बात है रूपलाल रोज़ की तरह सुबह-सुबह घी लेकर उसे बेचने के लिए अपने घर से निकला! वह प्रतिदिन केवल 5 किलो घी लेकर निकलता ताकि शाम तक सारा बिक जाए! लेकिन उस दिन रूपलाल का घी दोपहर तक ही सारा बिक गया! अब उसके पास और घी नहीं था जैसे जैसे वह आगे बढता गया गाव के लोग उसे बुलाने लगे!
रामू गाव वाला - "अरे भाई रूपलाल, इदर आओं मुझे थोडा घी दो! 2 दिन बाद मैंने अपने घर में दावत रखी है तो उसके लिए शुद्ध घी चाहिए!"
अब रूपलाल  सोच में पड़ गया कि अब वह क्या करें उसके पास सारा घी खत्म हो चुका था! तो उसने बड़ी विनम्रता से कहा-" श्रीमान, मुझे क्षमा करें आज मेरे पास घी नहीं है अगर आपकी आज्ञा हो तो मैं कल सबसे पहले आपके घर घी पहुंचा दूंगा!"
रामू गाव वाले ने कहा-"ठीक है ! कल दो किलो घी मुझे दे देना!"

अब रूपलाल अपने घर लौट आया घर जाकर वह सोचने लगा कि मैं इतना कि कहां से लाऊंगा!
मेरे पास तो केवल इतना ही दूध है जिससे में केवल 5 किलो घी बना सकूं! गांव में त्योहार के चलते सिर्फ इतना ही काफी नहीं होगा मुझे और घी  चाहिए होगा, तभी मैं अच्छी तरह कमाई कर सकूंगा! गाव मै इतनी घी की मांग को देखकर अब रूपलाल के मन में लालच आने लगा! उसे बस किसी भी तरह से ज्यादा पैसे कमाने का मार्ग चाहिए था!

Hindi Kahaniya For Kids | Lalchi Ghee Wale Ki Kahani


अगले दिन सुबह रूपलाल उठा और रोज की तरह 5 किलो घी बना लिया परंतु उसे 2 किलो की अलग से और चाहिए था! उसने घी को ज्यादा करने के लिए उस 5 किलो घी में  वनस्पति का तेल डाल दिया! और गांव में जाकर उसे बेच आया! अब उसे पहले से कई गुना ज्यादा पैसे मिले! वह ख़ुशी से घूमता हुआ अपने घर लौट आया! अब जब रामू गांव वाले ने उस घी से जिससे मिठाइयां बनाई तो वह अच्छी नहीं बनी! वह यह देखकर हैरान हो गया!
रामू का  वाला- "अरे,अरे यह क्या, मैंने तो मिठाई में सब सामग्री अच्छी तरह डाली थी  तो यह बिगड़  कैसे गई! जरूर कुछ तो गड़बड़ है!"
रामू को अब रूपलाल के घी पर शक होने लगा  उसने सोचा-  "क्यों ना मैं रूपलाल घी वाले से इस बारे में बात करू!"

Lalchi Ghee Wala Ruplal Hindi Kahani | Stories For Kids

यह सोचकर रामू गांव वाला रूपलाल के घर गया! अब हुआ यु की जेसे ही वह घर के अन्दर गया ,अन्दर रूपलाल घी में वनस्पति का तेल डाल रहा था! रामू यह देखकर हैरान रह गया तथा उसने रूपलाल को मिलावट करते हुए पकड़ लिया! अब रामू ने चिल्लाते हुए गांव वालों को इकट्ठा कर लिया और सारी बात बता दी!
अब गांव वालों ने रूपलाल को खूब पीटा तथा उससे घी लेना भी हमेशा के लिए बंद कर लिया!

तो बच्चों देखा आपने किस तरह रूपलाल के लालच की वजह से उसे कितनी हानि हो गई इसलिए कहते हैं “लालच बुरी बला है!”

Watch Full Story : लालची घी वाला रूपलाल | Hindi Kahaniya For Kids | Stories For Kids

✿ Story : Lalchi Ghee Wala Hindi Kahani ✿ Animator : DoveKids TV Animation Team
1 comment
Hide comments

1 comment: