लालची किसान और व्यापारी - Hindi Kahaniya | Stories For Kids - Truehindi.Com » Hindi Shayari हिंदी शायरी,Birthday Wishes,Romantic Quotes,Motivational Quotes.

Mobile Menu

Latest

logoblog

लालची किसान और व्यापारी - Hindi Kahaniya | Stories For Kids

Sunday, June 23, 2019
Lalchi Kisaan Or Vyapari - लालची किसान और व्यापारी | Hindi Kahani,Hindi Moral Stories,Hindi Stories For Kids,Panchatantra Stories In Hindi,Hindi Fairy Tales,Hindi Ki Kahaniya,Kids Kahaniya,Stories For Kids,Bed Time Story,Moral Story,Lalchi Stories,Hindi Kahaniya For Kids.

लालची किसान और व्यापारी - Hindi Kahaniya | Stories For Kids

एक समय की बात सुन्दरपुर गांव में सोमेश्वर नाम का एक किसान रहता था! उसकी फसल पूरे गांव में अच्छी होती थी!
क्योंकि सोमेश्वर अपनी पूरी मेहनत और लगन के साथ अपने खेतों में काम करता और अनाज प्राप्त करता!
सोमेश्वर की इतनी मेहनत से उस को काफी फायदा भी मिलता! सोमेश्वर के खेत के पास में नाथू का खेत भी था!
नाथू एक तो कामचोर था और दूसरा वह  सोमेश्वर के खेत में उग रही फसल को देख कर भी जलता रहता!

नाथू- यह सोमेश्वर खुद को समझता क्या है! इस बार में अपनी फसल इससे भी अच्छी करूंगा!
जब दोनों की फसल पक कर तैयार हो गई तब दोनों अपनी फसल को बेचते हैं! फसल को बेचने पर अच्छा मुनाफा भी होता है! सोमेश्वर कहता है- “भगवान की दया से इस बार फसल अच्छी हुई है बमौसमहुत मुनाफा हुआ है!”
तभी नाथू कहता है- “इतनी मेहनत की फिर भी बस इतने से पैसे! मुझे कुछ और करना पड़ेगा नहीं तो यह  सोमेश्वर मुझसे आगे निकल जाएगा!”


 Lalchi Kisan Or Vyapari | Stories For Kids

नाथू अब लालची हो चुका था उसके दिमाग में अधिक पैसा कमाने का भूत सवार था! इसलिए उसने एक उपाय निकाला!
वह अगले दिन अनाज की बोरियों में कंकड़ और कुछ छोटे पत्थर मिलाकर बोरियों का वजन बढ़ा देता है!
अब अनाज की बोरियां पहले से ज्यादा बड़ी और भारी हो गयी! अगले दिन अब नाथू बाजार में जाता है और अनाज की
बोरियां बेचता है तो उसे बहुत ज्यादा मुनाफा होता है! अब नाथू हर बार बोरियों में कंकड़ मिला कर ले जाता है!
एक दिन सोमेश्वर ने नाथू को अनाज की बोरियों में कंकड़ मिलाते देख लेता हे और बोलता हे -
“अरे नाथू, यह तुम क्या कर रहे हो ऐसा मत करो! यह गलत बात है!”
नाथू कहता है- “तुम चुप करो! क्या गलत है और क्या सही मुझे पता है! और तुम जाओ यहां से!”

नाथू ने  सोमेश्वर की एक ना सुनी  और वह अनाज में कंकड़ मिलाकर उन्हें बेचने बाजार चल पड़ा!
तभीएक दिन राजेश नाम का व्यापारी अनाज से भरी बोरियां खरीदने आया उसने नाथू की बोरियां खोलकर देखी
तो वह हैरान रह गया! उसमें नाथू ने  चालाकी से अनाज के साथ कंकड़ मिला दिए थे! राजेश ने तुरंत हंगामा कर दिया
और उसकी सारी पोल खोल दी! आसपास खड़े लोगों ने नाथू को बहुत पीटा!

तो बच्चों इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती है कि हमें लालच नहीं करना चाहिए!

Watch Full Story : लालची किसान और व्यापारी - Hindi Kahaniya | Stories For Kids

✿ Story : लालची किसान और व्यापारी ✿ Animator : DoveKids TV Animation Team

No comments:

Post a Comment